AGOSH 1

D.r HIMANSHU SHARMA

31 Posts

490 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12134 postid : 577118

टूटी की वूटी बनकर हनुमत'

Posted On: 7 Aug, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

images (2)

टूटी की वूटी बनकर हनुमत मेरे आ जाना
बीच भँवर में नैया डोले उसको पार लगा जाना ।
तन -मन से हनुमत मैने तुमको पुकारा है ,
चारों ओर निगाह घुमा ली कोई नहीं सहारा है । (१)

बल बुद्धि के हो तुम दाता बिगडे काम बनाते हो ,
गर किस्मत सोई हो तो तुम्ही उसे जगाते हो ।
भूत ,पिशाच नृप सब तुमसे डरते ,
जो संकट में तुम्हे पुकारे उसकी विपदा हरते । (२ )

हनुमत तुमने राम नाम की मन में छवि रमाई,
एक जरा सी बात पर अपनी छाती फाड़ दिखाई ।
श्री राम जानकी के दर्शन साक्षात् कराये,
इस द्रश्य को देखकर देवता भी हर्षाये । (३ )

तेरी क्रपा की आस हमने भी लगाई ,
राम नाम की पूजा करके जीवन डोर तेरे हाथ थमाई ।
अब ना देर लगाओ हनुमत क्रपा द्रष्टी डालो ,
बिगड़ रहे जो काज हमारे उनको तुम्ही सँवारों । (४ )

डॉo हिमांशु शर्मा (आगोश )

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran