AGOSH 1

D.r HIMANSHU SHARMA

31 Posts

490 comments

Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

टूटी की वूटी बनकर हनुमत’

Posted On: 7 Aug, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

चार सवाल

Posted On: 13 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

16 Comments

फुरसत हो अगर हनुमत

Posted On: 24 Apr, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

” भारतीय कला का इतिहास “

Posted On: 7 Mar, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

6 Comments

‘यूनाईटेड आर्ट फेयर’ कला मंच

Posted On: 28 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

” बहु बेटी ना बनी, सास माँ ना बनी “

Posted On: 22 Nov, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

20 Comments

सभी भाई ,बहनों को दिवाली की शुभकामनाएं

Posted On: 9 Nov, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 4.90 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

15 Comments

कुदरत से बेईमानी

Posted On: 2 Nov, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

8 Comments

उमरिया ढल गयी रे

Posted On: 29 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

15 Comments

‘गजल’ जिन्दगी’

Posted On: 25 Oct, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

12 Comments

Page 1 of 41234»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Rajesh Kumar Srivastav Rajesh Kumar Srivastav

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF) Dr.Himanshu sharma(Aagosh) c/o Annurag sharma (UAF)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: डॉo हिमांशु शर्मा (आगोश ) डॉo हिमांशु शर्मा (आगोश )

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: yatindranathchaturvedi yatindranathchaturvedi

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: seemakanwal seemakanwal

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: Ajay Kumar Dubey Ajay Kumar Dubey

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

अनुरागभाई ये भानुप्रकाश शर्मा ने लिखा है । लाईन लंबी खींच दी है तो पढने में दिक्कत है तो कोपी पेस्ट कर दी है -----आदरणीय अनुराग जी। एक सुंदर कहानी आपने बताई, लेकिन प्रश्न फिर कलुआ की कहानी पर उठता है कि क्या वह वाकई में मरा था। या फिर वह कोमा में चला चला गया था, जिसे लोग मरा समझ रहे थे। क्योंकि मरने के बाद कौन कहां गया ये किसी ने भी नहीं देखा। स्वर्ग व नर्क तो व्यक्ति इस जीवन में भोगता है। मरने के बाद तो जो गया सो गया। क्योंकि जैसे एक पौध उगती है, फिर वह पेड़ का रूप लेता है। उस पर फल लगते हैं। फिर बाद में पेड़ बूढ़ा हो जाता है और खत्म जाता है। इसके बाद पेड़ के फलों से निकले बीज व टहनियों से रोपी कलम ही पेड़ की पीढ़ी को आगे चलाते हैं। ऐसे ही मानव का जीवन है। जो गया फिर दोबारा लौट कर नहीं आता। मैं यहां यह उदाहरण दे सकता हूं कि जब सृष्टि बनी और जीवन आया तो इस धरती पर तब जितने प्राणी थे आज उसकी तुलना में कई गुना ज्यादा हो सकते हैं। ऐसे में तब यदि हर प्राणी की आत्मा नया जीवन लेती है, तो आज प्राणी या कीड़े मकोड़े जो भी कहें जिसमें जीवन है, उनके लिए अलग से आत्मा कहां से आ गई। प्राणी निरंतर बढ़ रहे हैं, ऐसे में दोबारा जन्म या आत्मा के चोला बदलने में मैं विश्वास नहीं रखता। हो सकता है कि कोई तर्कदेकर मेरी बात को काटे, लेकिन सच्चाई यह है कि जो एक बार गया वह दोबारा नहीं आता।--------- . उन की आखरी लाईन पढ लो । शर्माजी नें बिलकुल सही लिखा है । उनकी बात काटनेका सवाल ही नही था । मैने अपनी द्रष्टि से वो ही बात दोहराई है । मैने उन का पूरा नाम नही लिखा लेकिन मैने उन के रिप्लाय बटन में लिखा था, तो समज लेना चाहिए की मैंने उन की कोमेंट का जवाब दिया है लेख पर नही । आप भी शर्मा जी हो ईस लिए आप को लगा की मैं आप की बात काट रहा हुं । आपने दो बार मुझे समजने मे भुल की है ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: जैनित कुमार वर्मा जैनित कुमार वर्मा

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

यही क्रम वर्षो चलता रहा आखिर ईश्वर को कलुवा की याद आई, कलुवा की सांसे बंद हो गयी । ईश्वर की ऐसी ही मर्जी संतोष कर घर वाले कफन काठी का इंतजाम करने लगे । काठी बनायीं गयी और कलुवा के शरीर को कफ़न से ढक दिया गया अर्थी को लेकर चार आदमी चल दिये । प्रियजन का बिछुड़ने का दु:ख व बच्चों का करुण रुदन सुन प्रत्येक प्राणी ग़मगीन तथा बहुतों की अश्रुधारा बह रही थी । अर्थी के पीछे-पीछे जन समुदाय चल रहा था। शंखनाद हो रहा था जिससे स्वर्ग के दरवाजे खुल जाये ! निष्कर्ष कि बात करूँ तो बात वहीँ आ जाती है विश्वास की. जों हम पहले भी कर रहे थे और अब भी क्योंकि अपने मरे बिना स्वर्ग नहीं दिखता आपकी कोशिश और आपके शब्दों की तारीफ करता हूँ

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

शर्मा जी आप ने कहा ---- कोई तर्कदेकर मेरी बात को काटे, लेकिन सच्चाई यह है कि जो एक बार गया वह दोबारा नहीं आता।-------- बात काटने की नही है । वो ही जा सकता है जो आता है । लेकिन कोइ आया ही नजी वो कैसे जायेगा । जीसे हम जीव समजते हैं वो तो एक स्थिति है, चेतना है । कार को चावी लगते हैं तो हवा और ईंधने के बीच की एक प्रक्रिया शुरु हो जाती है, कारमें चेतना आ जाती है, भेले वो खडी ही क्यों न हो । प्राणी शरीरे में अरबों कोष आते हैं जीस की स्वतंत्र चेतना होती है । यान वो अलग अलग जीव होते हैं । मां के शरीर में रहे एक कोष( अंडा ) से पिता के शरीर से आया कोष ( शुक्राणु ) मिल जाता है तो एक ही सेल हो जाता है । और वही विकास हो के बच्चा बन के जनम लेता है । पहले दो जीव थे फी एक जीव हो गया । बाहर से कोइ जीव मंगाने की जरूरत नही पडी । मां के अंडे या पिता के शुक्राणु वाले जीव मर के कहीं बाहर चले नही गये थे । वो चेतनायें थी, दोनो मिल के एक हो गई गई, बच्चे की चेतना । कार मे होती प्रक्रिया तो बहुत सादा है, शरीर मे जटिल होती है । होता है कई बार ऐसा, प्रक्रिया बहुत धीमी पड जाती है, दिल की धडकन रूक गई हो ऐसा लगता हैं, सांस भी न के बराबर चलती हो । आस पास के आदमी तो समज लेते हैं की ये तो गया । जब प्रक्रिया नोर्मल बनती है तो वो उठ खडा होता है । मतलब ये नही होता की वो फिर से जिन्दा हो गया । वो जिन्दा ही था । अनुरागभाई के गांव के कलुवाभाई के साथ यही हुआ है । उपर की बात विज्ञानने सिध्ध कर दी है निचे की बात मेरा अनुमान है । कलुवाभाई की कही बातों का दो अर्थ निकलते हैं । फरिश्ते वाली बात बिलकुल जुठ ही बताई परिजनों को । या तो उस ने अपना सच बोला था । सुशुप्त अवस्था में, ऐसी खास अवस्था में आदमी के दिमाग का सपने देखनेवाला हिस्सा तेज हो जाता है । सपने में आदमी कहीं पर भी घुम के आ जाता है । कहां गया था किसी को याद रहता है किसी को नही । कलुवाभाई को याद रह गया तो बोल दिया ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

के द्वारा: जैनित कुमार वर्मा जैनित कुमार वर्मा

आदरणीय अनुराग जी। एक सुंदर कहानी आपने बताई, लेकिन प्रश्न फिर कलुआ की कहानी पर उठता है कि क्या वह वाकई में मरा था। या फिर वह कोमा में चला गया था, जिसे लोग मरा समझ रहे थे। क्योंकि मरने के बाद कौन कहां गया ये किसी ने भी नहीं देखा। स्वर्ग व नर्क तो व्यक्ति इस जीवन में ही भोगता है। मरने के बाद तो जो गया सो गया। क्योंकि जैसे एक पौध उगती है, फिर वह पेड़ का रूप लेता है। उस पर फल लगते हैं। फिर बाद में पेड़ बूढ़ा हो जाता है और खत्म हो जाता है। इसके बाद पेड़ के फलों से निकले बीज व टहनियों से रोपी कलम ही पेड़ की पीढ़ी को आगे चलाते हैं। ऐसे ही मानव का जीवन है। जो गया फिर दोबारा लौट कर नहीं आता। मैं यहां यह उदाहरण दे सकता हूं कि जब सृष्टि बनी और जीवन आया तो इस धरती पर तब जितने प्राणी थे आज उसकी तुलना में कई  गुना ज्यादा हो सकते हैं। ऐसे में तब यदि हर प्राणी की आत्मा नया जीवन लेती है, तो आज प्राणी या कीड़े मकोड़े जो भी कहें जिसमें जीवन है, उनके लिए अलग से आत्मा कहां से आ गई। प्राणी निरंतर बढ़ रहे हैं, ऐसे में दोबारा जन्म या आत्मा के चोला बदलने में मैं विश्वास नहीं रखता। हो सकता है कि कोई तर्कदेकर मेरी बात को काटे, लेकिन सच्चाई यह है कि जो एक बार गया वह दोबारा नहीं आता। 

के द्वारा: bhanuprakashsharma bhanuprakashsharma

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: akraktale akraktale

आदरणीय अनुराग जी....सादर.... अगर ये सत्य घटना नहीं है...तो हम यही कहेंगे.......कि ये सत्य है..... बहुत पहले बिलकुल ऐसा ही हमारे यहाँ लुधियाना शहर की रेलवे कालोनी में भी हुआ था......'चेत राम' (रेलवे में ड्राईवर था) नाम के बन्दे को यमदूत ले गए थे.....लेकिन चिता पर ही वो उठ के बैठ गया था.....जब उसे ऊपर से धक्का दिया तो नीचे चिता को मुखाग्नि दिखाई जा चुकी थी.....जोर से धक्का देने की वजह से उसका दायें पैर का अंगूठा.....चिता पर टकराया था....इसी वजह से आज भी उसका अंगूठा 'काला रंग' लिए हुए है....और उसी वक़्त उसके घर से पांच घर छोड़ कर दुसरे 'चेत राम' का देहांत हो गया था..... उसे 'ऊपर' पोथी देखने के बाद बताया गया था......तुम्हारी उम्र तो 85 साल की है....और अभी उसके 6 साल बाकी हैं.....

के द्वारा: vikramjitsingh vikramjitsingh

के द्वारा: shikhakaushik shikhakaushik

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: nishamittal nishamittal

के द्वारा: yogi sarswat yogi sarswat

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: drbhupendra drbhupendra

श्री अनुराग जी, प्रणाम स्वीकार करे! आप प्रशासक है और आपकी फोटो से लगता है की आप जिस टीचर को जानते होंगे, वे भले ही आपके विवेकानुसार पूजय्नीय रहे हों, आप आज उन्ही की वजह से ही प्रशासक पद की शोभा बढ़ा रहे है, इस कारण आप के मन में ये भाव जायज हैं, पर क्या आज के टीचर को आप जान पाए है? नहीं तो आप की अपनी बेटी और बेटे से इनके बारे में भी प्पूचकर देखे की इनका चरीत्र कैसा है? मै खुद टीचर रहा हूँ , मुझ से बेहतर इन तथाकथित भविष्य निर्माताओं को कोई नहीं जानता,आप आज के टीचरों के बारे में ज्जाने तब आप ऐसा विचार छोड़ने परर विवश हो जायेंगे!! इन टीचरों को नमन करना तो दूर , इस दिन को मनाने का भी आप विचार त्याग देंगे !!

के द्वारा: pitamberthakwani pitamberthakwani

के द्वारा: jlsingh jlsingh

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

के द्वारा: annurag sharma(Administrator) annurag sharma(Administrator)

आदरणीय अनुराग जी, सनातन धर्म का मूल यही है कि व्यक्ति जन्म से न तो ब्राह्मण, न क्षत्रि, न वैश्य और नशूद्र है। वह केवल कर्म से ही किसी वर्ण को प्राप्त कर सकता है। यह भी सच है कि वर्तमान में सनातन धर्म के अनुसार कर्माधारित ब्राह्मण तो धरातल से विलुप्त ही हो गया है। ब्राह्मण होना देवता होने के समान है। किन्तु जन्म से नहीं, बल्कि कर्म से। जाति व्यवस्था का निर्माण कर्माधारित ही था। लेकिन समाज के दूषित होने के कारण यह जन्माधारित बन गई। कालान्तर में यही जाति प्रथा सनातन धर्म के पतन  एवं भारत की गुलामी का कारण बनी। आज मुम्बई में 50 हजार लोंगो का खुले आम उत्पात मचाने का साहस होने का कारण हमारा जातियों में बँटा होना ही है। 

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

आदरणीय अनुराग जी, नमस्कार! आपने किसानो की समस्या को उठाया, उसके लिए मैं आपका तहेदिल से शुक्रिया अदा करता हूँ. मैं खुद किसान का बेटा हूँ और बीच बीच में किसानो की समस्या को ब्यवहारिक ज्ञान से उठाने का प्रयास करता हूँ. हाँ मैंने शोध नहीं किया, नहीं किसी सर्वे का सहारा लिया है. पर हमारे क्षेत्र के किसान भी खुशहाल नहीं हैं. पढ़े लिखे नौजवान कृषि कार्य से दूर भागते हैं क्योंकि इसमें मिहनत ज्यादा लगत ज्यादा और आमदनी यथोचित नहीं है. दाम बढ़ते हैं तो बिचौलियों को फायदा होता है ... किसान अपने आपको ठगा सा महसूस करता है. योजनायें बंटी हैं पर धरातल पर उतारते उतारते काफी देर हो जाते है और सरकारी बाबूगिरी जो अक्सर किसान के बेटे ही होते हैं अपने पिता तुल्य कृषकों का दोहन करने से नहीं चूकते इसीलिये आज किसान फटेहाल है भले ही उद्योग जगत से जुड़े रहने वाले खुश हाल हैं . अंत में आपका हार्दिक आभार!

के द्वारा: jlsingh jlsingh




latest from jagran